Digital Signature क्या होता है? Digital Signature कैसे बनाये?

हैलो दोस्तो , आपका हमरे ब्लॉग मे स्वागत है आज हम इस आर्टिकल के मध्यम से हम आपको Digital Signature क्या होता है?Digital Signature कैसे बनाये? के बारे मे जानकारी देने वाले है। बस आपको ये आर्टिकल को पूरा पढना है जिससे की आपको इसके बारे मे बहुत अच्छी जानकारी प्राप्त हो जाए । अपने इसके बारे मे पहले भी सुना होगा इस आर्टिक्ल से हम इसके बारे मे पूरी जानकारी देगे । वैसे Signature हमारे लिए बहुत जरूरी होते है आजकल Signature थोड़ा बहुत इधर उधर होने से धोका धाड़ी होना आम बात हो गया है तो इससे बचने के लिए Digital Signature का use किया जाता है ।

आजकल के डिजिटल लाइफ में फिजिकल चीजें दूर होती जा रही हैं. कई ऑफिशियल कामों में अब आपके सिग्नेचर भी डिजिटल होंगे. इसके लिए आपको क्या करना है. और कैसे डिजिटल सिग्नेचर (Digital Signature) करना है; इसकी विस्तृत रूप में हम जानकारी दे रहे हैं।

डिजिटल सिग्नेचर क्या होता है

यह एक ऐसी टेकनीक है जिससे हम अपने डॉकयुमेंट के बारे मे अछे से जान सकते है यह एक बहुत अछि टेक्नोलोजी है ,इसका उपयोग आज कल बहुत होने लग गया है । आजकल सब ऑनलाइन हो गया है । इसमे फर्जी कामो से बहुत गलत कम किए जा रहे है तो हम इससे उससे आसानी से बच सकते है ।

Digital Signature को कुछ इस टाइप से जाता है की वो कोई भी नकली चीज या किसी भी छेदछाड़ को पहचानने मे समर्थ होता है । यह एक डिजिटल मेसेग या डॉकयुमेंट को समझने वाला होता है इनही के लिए ही इसे बनाया गया है ।इस पर हम भरोसा कर सकते है

इससे भेजे गए डॉकयुमेंट को हम पहचान सकते है ओर जिसने भी ये भेजा होगा वो इसके बारे मे कुछ होने पर मना नहीं कर सकता है क्यूकी इसके उसके बारे मे पूरी जानकारी होती है । Digital Signature एक standard elements है बहुत सरे Cryptographic Protocol Suites के लिए और इनका इस्तमाल Software Distribution, Financial Transaction और Contract Management Software जैसे कई जगहों में होता है जिससे की बड़ी आसानी से forgery को पकड़ा जा सकता है।

Digital Signature एक मेथमतीक टेकनीक है ,जो किसी मेसेग या एलेक्ट्रोनिक की पहचान कर्ता है ,डिजिटल सिग्नेचर किसी व्यक्ति के हस्ताक्षर का इलेक्ट्रानिक रूप है.

इसका इस्तेमाल किसी दस्तावेज को प्रमाणित करने के लिए किया जा सकता है. ये सर्टिफिकेट कंट्रोलर ऑफ सर्टिफाइंग अथॉरिटीज (सीसीए) द्वारा स्वीकृत सर्टिफाइंग अथारिटी जारी करती है डिजिटल सर्टिफिकेट ‘यूएसबी टोकन’ के रूप में आता है और आमतौर पर एक या दो साल के लिए वैध रहता है. वैधता समाप्त होने पर इसे रिन्यू कराया जा सकता है.

Digital Signature कैसे काम कर्ता है ?

Digital Signature Public key Cryptogrphy के ऊपर ही आधारित है जिसे Asymmetric Cryptography भी कहते हैं. ये Public key Algorithm जैसे की RSA का इस्तमाल कर के दो keys generate करता है जो की हैं Private और Public।डिजिटल सिग्नेचर में दो Key’s का इस्तेमाल किया जाता है, Public Key और Private Key.

जब भी Signer द्वारा डिजिटल माधयम से किसी डॉक्यूमेंट को Sign किया जाता है, तो वहां पर private Key का इस्तेमाल होता है, जिससे वह डॉक्यूमेंट एन्क्रिप्ट हो जाता है, यानि वह डॉक्यूमेंट पूरी तरह सुरक्षित हो जाता है, और इस Private Key को Signer काफी सुरक्षित रखता है।

इसके बाद उस डॉक्यूमेंट को खोलने या कह लीजिये पढ़ने के लिए Signer की Public Key का होना आवश्यक होता है, जिसके बाद ही उस डॉक्यूमेंट को डिक्रिप्ट किया जा सकता है। इस तरह से डिजिटल सिग्नेचर कार्य करता है।

Private Key ओर Public Key क्या है ?

Private key को Secret key भी कहा जाता है क्योंकि ये Signer यानी Document sign करने वाले के पास रहता है जो डॉक्यूमेंट को Sign करने के इस्तेमाल में लाया जाता है और हैश को इससे Encrypt किया जाता है। इसमें से पब्लिक की(key) सार्वजनिक होती है। और प्राइवेट अथवा निजी की(key) गोपनीय होती है। जिसे केवल उपभोक्ता जानता है। जब कभी भी उपभोक्ता कही पर डिजिटल सिग्नेचर करता है। तो वह इसी प्राइवेट की(key) का उपयोग करता है।

Digital Signature कहा से प्राप्त करे ?

डिजिटल सिग्नेचर को आप भारत में किसी भी मान्य CA (Certificate Authority) से प्राप्त कर सकते हैं इसके लिए PAN (Personal Account Number) कार्ड जो ID proof होता है।इसके बाद एक Address proof जैसे बिजली बिल, पानी बिल, राशन कार्ड, पासपोर्ट, इत्यादि की फ़ोटो कॉपी व 4 खुद की पासपोर्ट साइज फ़ोटो को स्वप्रमाणित (Self Attested) की प्रति CA आफिस को भेजनी होती है।

भारत मे कुछ निम्न (CA) Digital signature Issuer हैं जो निम्न हैं-

Emudhra, CDAC, Safe Scrypt, n code Capricorn इत्यादि हैं जिन्हें भारत सरकार ने Certificate Authority के रूप में लाइसेंस दिया हुआ है।

ये थी Digital signature क्या है और कैसे काम करता है की हिंदी जानकारी जिसमे आपको digital signature के बारे में जानकारी मिली और अब आप इसके बारे में अच्छे से जान चुके है।

निष्कर्ष

आज हमने आपको इस पोस्ट मे ये थी digital signature क्या है के बारे मे जानकारी दी है आपको इसके बारे मे जानकारी कैसी लगी आप हमे कमेंट मे बता सकते है , digital signature के बारे मेआपको यह लेख Digital Signature क्या है और Digital Signature कैसे बनाये कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले।

Default image
Manish Chhimpa
नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम मनीष छिंपा है, मैं अपनी BSC में अपनी स्नातक की डिग्री कर रहा हूँ। मुझे इंटरनेट, टेक्नॉलजी, कंप्यूटर के बारे में जानने की काफी ज्यादा दिलचस्पी है, जिस कारण मैंने इस ब्लॉग को बनाया है जिसमें आपको इंटरनेट, टेक्नॉलजी, कंप्यूटर, मोबाइल, टिप्स ट्रिक्स तथा ऑनलाइन पैसे कमाने के तरीकों के बारे में बताने वाला हूँ। अगर आपको मेरे आर्टिक्ल पसंद आते है तो मुझे Social Media पर Follow जरूर कर लें।
Articles: 63

Leave a Reply